रोजगार सृजन अगले पांच वर्षों में मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता : हरसिमरत कौर

रिपोर्ट : अजीत कुमार


 



 


केंद्रीय खाद्य प्रसंशकरण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि “अगले पांच वर्षों में विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार सृजन मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता होगी, ताकि किसानों के बच्चों को रोजगार के लिए कहीं और नहीं जाना पड़े। किसान नौकरी चाहने वालों के स्थान पर रोजगार सृजक बनें।” हरसिमरत कौर बादल नई दिल्ली में कार्यभार संभालने के बाद मीडिया से बातचीत कर रही थीं।


उन्होंने बताया कि मंत्रालय विश्व बैंक के साथ ग्राम समृद्धि योजना पर कार्य कर रहा है, जिसे जल्द ही शुरू किया जाएगा। यह कार्यक्रम सूक्ष्म उद्यमों पर केंद्रित होगा जिनकी पूंजी 10 लाख रुपये से कम होगी। कार्यक्रम के बारे में उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य छोटे किसानों पर ध्यान लगाना है और मंत्रालय का उद्देश्य संक्षिप्त अवधि में ऐसी 60 से 70 हजार इकाइयों का सृजन करना है। आरंभिक परियोजना 4 राज्यों में शुरू की जाएगी और धीरे-धीरे इसका विस्तार किया जाएगा।


हरसिमरत कौर बादल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा उनके कार्य पर विश्वास व्यक्त करते हुए एक बार फिर वही मंत्रालय संभालने का अवसर प्रदान करने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया।


अन्य क्षेत्रों पर जोर देते हुए हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि वह खाद्य प्रसंशकरण क्षेत्र के लिए एनबीएफसी द्वारा धन प्रदान करने पर विशेष ध्यान देंगी। वह पिछली सरकार के अंतिम सत्र के अंतिम दिन पेश की गई राष्ट्रीय खाद्य प्रसंशकरण नीति को भी आगे बढ़ाएंगी। उन्होंने कहा कि वर्ल्ड फूट इंडिया पिछली बार से बेहतर और बड़ा होगा। मैं पिछले कुछ महीनो की प्रगति की जानकारी लेने के लिए एक समीक्षा बैठक करूंगी।


हरसिमरत कौर बादल ने खाद्य प्रसंशकरण उद्योग राज्य मंत्री रामेश्वर तेली का स्वागत किया और कहा कि उन्हें उम्मीद है कि रामेश्वर तेली के आने से पूर्वोत्तर में खाद्य प्रसंशकरण क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा। पूर्वोत्तर में काफी संभावनाएं है और भौगोलिक दृष्टि से जिन क्षेत्रों पर अब ध्यान दिया जाएगा उनमें से यह एक है।


Popular posts